राजनीति

सोनिया के डिनर पार्टी से माया, ममता, अखिलेश और पवार ने बनाई दूरी!

कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी इन दिनों विपक्ष को एकजुट करने के मिशन में जुटी हैं। इसके लिए उन्होंने डिनर डिप्लोमैसी का सहारा लिया है। जिसमें शामिल होने के लिए तमाम विपक्षी दलों को न्योता भेजा गया है। लेकिन सोनिया के डिनर पार्टी में जिस तरह एक के बाद एक कई बड़े नेताओं के नहीं आने को लेकर खबरें सामने आ रही हैं, वो कांग्रेस के लिए किसी झटके कम नहीं हैं।

दरअसल बीजेपी खासकर पीएम मोदी के खिलाफ विपक्ष की एकजुटता को दिखाने के लिए सोनिया गांधी ने अफने आवास 10 जनपथ पर एक डिनर पार्टी का आयोजन किया है। मीडीया रिपोर्ट्स की मानें तो इस पार्टी में शामिल होने के लिए करीब 17 विपक्षी दलों को न्योता भेजा गया है। लेकिन अब जो खबर सामने आ रही है, उसके मुताबिक इस डिनर पार्टी में कई बड़े दलों के नेताओं ने शामिल होने से मना कर दिया है।

खबर के मुताबिक एसपी प्रमुख अखिलेश यादव, एनसीपी प्रमुख शरद पवार और बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने सोनिया गांधी के इस डिनर पार्टी में आने से इनकार कर दिया है। इससे पहले पश्चिम बंगाल की सीएम और टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी के भी नहीं आने की खबरें सामने आ चुकी हैं। हालांकि खबर ये भी है कि इन नेताओं की जगह पर उनके पार्टी के प्रतिनिधि शामिल होंगे।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस डिनर पार्टी में जेवीएम नेता बाबूलाल मरांडी, जेएमएम के हेमंत सोरेन, बिहार के पूर्व सीएम जीतन राम मांझी, लालू यादव के छोटे बेटे तजस्वी यादव और डीएमके की कनिमोई के अलावा सीपीएम के सीताराम येचुरी, सीपीआई के डी राजा के नेता शामिल होने की पूरी संभावना है। कांग्रेस सूत्रों की मानें तो सोनिया गांधी के डिनर में टीडीपी, बीजेडी और टीआरएस नेताओं को निमंत्रण नहीं भेजा गया है।

जाहिर है सोनिया अपनी इस डिनर डिप्लोमैसी के जरिए एक तीर से दो निशाना साधना चाहती हैं। वो विपक्षी नेताओं को डिनर पर बुलाकर ये साबित करना चाहती हैं कि, मोदी के विकल्प के तौर पर बनने वाले गठजोड़ का नेतृत्व कांग्रेस के पास ही होगा। हालांकि जिस तरह बड़े नेताओं के इस डिनर में नहीं आने को लेकर खबरें सामने आ रही हैं, उसे सोनिया की पहल को जोरदार झटके के तौर पर देखा जा रहा है।

To Top
Shares