राजनीति

क्या कर्नाटक में अपनी सरकार बचाने में कामयाब होगी बीजेपी ?

शनिवार 4 बजे फ्लोर टेस्ट कराने का दिया निर्देश

कर्नाटक में जारी सत्ता के खेल के बीच सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले के बाद सभी के जेहन में यही सवाल उठ रहा है कि क्या कर्नाटक में अपनी सरकार बचाने में कामयाब होगी बीजेपी ? क्योंकि सुप्रीम कोर्ट ने बहुमत परीक्षण के लिए येदियुरप्पा को 15 दिनों का वक्त दिए जाने के राज्यपाल के फैसले को पलट दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने येदियुरप्पा से शनिवार 4 बजे फ्लोर टेस्ट कराने को कहा है।

इससे पहले कांग्रेस-JDS की याचिका पर सुनावाई के लिए बीजेपी की ओर से पेश हुए, पूर्व अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने कोर्ट के सामने येदुरप्पा से समर्थक विधायकों की लिस्ट सौंपी। हालांकि ये साफ नहीं हो पाया कि जजों को सौंपी गई चिट्ठी में विधायकों की संख्या का जिक्र है या नहीं। कोर्ट में अपनी दलील रखते हुए रोहतगी ने कोर्ट को बताया कि चुनाव से पहले कांग्रेस और जेडीएस में कोई गठबंधन नहीं था। इसलिए राज्यपाल वजुभाई वाला ने सबसे बड़े दल को बुलाया था। इस दौरान रोहतगी ने कहा कि येदुरप्पा सदन में अपना बहुमत साबित कर देंगे। इतना ही नहीं रोहतगी ने इस दौरान कुछ कांग्रेस और जेडीएस विधायकों का समर्थन मिलने का भी दावा किया।

इसके बाद कांग्रेस की ओर से पेश हुए वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने अपनी दलील देनी शुरू की। बहस के दौरान उन्होंने कहा कि अगर किसी को बहुमत नहीं मिला है, तो सरकार बनाने का न्योता किसे दिया जाए? सिंघवी ने कहा कि कांग्रेस-जेडीएस कल ही बहुमत साबित करने के लिए तैयार है। कोर्ट को तय करना चाहिए कि किसे बहुमत साबित करने का मौका मिले। हालांकि सिंघवी ने कहा कि पहले कांग्रेस-जेडीएस को मौका मिलना चाहिए था। साथ ही उन्होंने वोटिंग के दौरान विधायकों को सुरक्षा दिए जाने और बहुमत परिक्षण के दौरान वीडियोग्राफी कराए जाने की मांग की।

इस बीच बीजेपी ने दावा किया है कि येदियुरप्पा शनिवार को सदन में अपना बहुमत साबित कर देंगे। ऐसे में ये देखने वाली बात होगी येदियुरप्पा अपनी कुर्सी बचा पाते हैं या नहीं।

To Top
Shares