वर्ल्ड

कैदियों के स्पर्म से मां बन रही है महिलाएं, वजह आपको कर देगी भावुक

इजरायल के जेलों में बंद फिलिस्तीन के लोग अपने परिवार को आगे बढ़ाने के लिए कुछ ऐसा कर रहे है। जिसे सुनकर आप काफी भावुक और हैरान हो जाएंगे। यहां की जेलों में 6 से 7 हजार फिलिस्तीनी कैद है जो कि अपने वंश को लेकर चिंतित है। इसलिए यहां के फिलिस्तीन कैदी स्पर्म चोरी कर अपनी पत्नियों को दे रहे है ताकि उनका वंश आगे बढ़ सके।

जी हां, इजरायल की जेलों में बंद हजारों फिलिस्तीनियों के परिवार स्मगलिंग कर लाए स्पर्म से बस रहे हैं। यहां रह रहें कैदियों को अपने परिवार से मिलने के लिए सिर्फ दो हफ्ते में एक बार 45 मिनट का समय दिया जाता है, वो भी सलाखों के पीछे से। इस छोटे से समय में कई कैदी चोरी-छिपे वाइफ को अपना स्पर्म फर्टिलाइजेशन के लिए देते, ताकि वो फैमिली को आगे बढ़ा सकें।

परिवार से मिलते कैदी।

साल 2013 अप्रैल तक रिलीजियस अथॉरिटीज ने IVF को लेकर अपना पक्ष साफ नहीं किया था। लेकिन वक्त के साथ चीजें बदलीं और अब ये प्रोसीजर कुछ खास मौकों पर मंजूर किया जाता है। 2013 में ही फलस्तीनी सुप्रीम फतवा काउंसिल ने पाबंदियों का पूरा ब्यौरा देते हुए कुछ कैदियों के लागू किया।

उनका कहना है कि ऐसे कैदी जो लंबे समय के लिए जेल में बंद हैं। या  जिनकी जेल आने से महज कुछ दिन पहले ही शादी हुई हो उन लोगों के लिए इस तरह के प्रोसीजर के लिए मंजूरी दे दी जाती है। हालांकि, बाकी केस में चोरी-छिपे इसकी तस्करी जारी है।

स्पर्म चोरी कर बेटी को दिया जन्म।

तस्करी के अलावा जो कैदी नार्मल प्रोसीजर से स्पर्म अपनी पत्नियों तक पहुंचाना चाहते है उन्हें काफी कागजी कार्यवाई करनी होती थी। इसके साथ ही एक विटनेस की जरूरत भी होती थी, जो कि सही शख्स की कंफर्मेसन दे सके। इस फैसले के चलते ही आज कई कैदियों के परिवार बस रहे है।

बता दें, गाजा में फर्टिलिटी क्लीनिक्स तेजी से बढ़ रहे है और ये क्लीनिक कैदियों की पत्नियों के फ्री ट्रीटमेंट ऑफर करते है। नैबलस की ‘रजान फर्टिलिटी क्लीनिक’ और गाजा में ‘अल बस्मा फर्टिलिटी क्लीनिक’ द्वारा कई स्मगल किए हुए स्पर्म स्टोर किए हैं। अनुमान है कि पिछले चार सालों में IVF तकनीक से कैदियों के पत्नियों से करीब 40 बच्चों जन्म दिया हैं।

To Top
Shares